Biography of Bhagat Singh In Hindi | भगत सिंह की जीवनी

भगत सिंह की जीवनी और भगत सिंह का वैवाहिक जीवन

भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी, शहीद भगत सिंह, भारत के एक महान व्यक्तित्व हैं, उन्होंने 23 साल की भगत सिंह उम्र में अपने देश के लिए खुद को बलिदान कर दिया। भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान, भगत सिंह सभी युवाओं के लिए एक युवा प्रतीक थे, जिन्होंने उन्हें देश के लिए आगे आने के लिए प्रोत्साहित किया। 

भगत सिंह का जन्म एक सिख परिवार में हुआ था, कम उम्र से ही उन्होंने अपने आस-पास के अंग्रेजों को भारतीयों पर अत्याचार करते देखा, जिसने उन्हें कम उम्र में ही देश के लिए कुछ करने के बारे में सोचा। 

उन्होंने सोचा कि देश के युवा देश की देह को बदल सकते हैं, इसलिए उन्होंने सभी युवाओं को एक नई दिशा दिखाने की कोशिश की। भगत सिंह का पूरा जीवन संघर्षों से भरा रहा, आज के युवा भी उनके जीवन से प्रेरणा लेते हैं।

भगत सिंह की जीवनी

भगत सिंह की बात करें तो भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर, 1907 को बंगा, लायलपुर जिले में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। अमर शहीदों में सरदार भगत सिंह का नाम सबसे आगे आता है। उनका पैतृक गांव भारत के पंजाब में खटकर कलां है। उनके पिता का नाम सरदार किशन सिंह सिंधु और माता का नाम श्रीमती विद्यावती कौर  था।

भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों के शहीद भगत सिंह, भारत की महान शक्ति हैं, जिन्होंने हमें अपने देश पर मरने की शक्ति दी है और देशभक्ति क्या है।

भगत सिंह जी को कभी भुलाया नहीं जा सकता, उनके द्वारा किए गए बलिदान को कोई नहीं माप सकता। 23 साल की उम्र में, उन्होंने अपने देश के लिए अपने जीवन और भगत सिंह का परिवार की खुशी और अपनी जवानी को बलिदान कर दिया ताकि हम आज शांति से रह सकें।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम के समय भगत सिंह का जन्म एक सिख परिवार में हुआ था और उन्होंने गर्व से सिख समुदाय का सिर उठाया था।

भगत सिंह जी ने बचपन से ही अंग्रेजों के अत्याचारों को देखा था और उन्हीं अत्याचारों को देखकर उन्होंने हम भारतीयों के लिए इतना कुछ किया है कि आज उनका नाम सुनहरे पन्नों में है। 

उन्होंने कहा कि देश के जवान देश के लिए कुछ भी कर सकते हैं, देश का चेहरा बदल सकते हैं और देश को आजाद भी कर सकते हैं. भगतजी का जीवन संघर्षों से भरा रहा।

भगत सिंह का फोटो

भगत सिंह की जीवनी
भगत सिंह की जीवनी

संक्षिप्त जीवनी

भगत सिंह का जन्म तिथि 27 सितम्बर 1907 में गाँव बंगा, जिला लायलपुर, पंजाब (अब पाकिस्तान में ) में एक सिख परिवार हुआ था। 13 वर्ष की उम्र में उन्होंने स्कुल छोड़ दी और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़े।

उन्होंने भारत को आजाद कराने के लिए गांधीजी के अहिंसा के रास्ते के बजाय सशस्त्र क्रांति का रास्ता चुना और आखिरकार ब्रिटिश सरकार ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और अपने अधिकारी सांडर्स की हत्या के आरोप में 23 मार्च भगत को फांसी दे दी गई।

आरंभिक जीवन

भगत सिंह का जन्म 27 सितम्बर 1907 को सिख परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम किसन सिंह और माता का नाम विद्यावती था। तेमना पूरा परिवार भारत की आजादी की लड़ाई में योगदान कर रहा था। तेना चाचा उधम सिंह जनरल क्रूर डायर की हत्या कर जलियांवाला बाग हत्याकांड बदलो लेवा लंदन जाया था। 

भगत सिंह के जन्म के समय भी तेमना पिता राजनितिक आंदोलन में हिस्सा लेने की जेल में थे। तेमना पारिवारिक मूल्यों का प्रभाव पड़ा और 13 वर्ष की उम्र तक तेमणे देश को आजाद करवाने लिए भाग ;लेना शुरू कर दिया।

उनके बचपन के बारे में एक विख्यात है। की एक दिन बनाकर भगत खेत जब उनके दादा ने पूछा की उनसे क्या कर रहे है उसमे कुछ डंडिया लगो रहे थे। मै बंदक की खेती कर रहा हु ताकि अंग्रेजो को अपने देश से भगा सकूं। 

क्रांतिकारी भगत सिंह

भगत सिंह ने अंग्रेजों को भारत से बाहर निकालने के लिए एक सशस्त्र क्रांति को अपनाया, लेकिन वे आयरिश क्रांति से बहुत प्रभावित थे। उनका मानना ​​था। भारत के साथ-साथ आयरलैंड में भी क्रांति संभव है।

इसके लिए उन्होंने 1926 में नौजवान भारत सभा की स्थापना की और हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के सदस्य भी बने, जो बाद में हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन बन गया। इस संगठन में उनकी मुलाकात भगत सिंह राजगुरु सुखदेव और चंद्रशेखर आजाद जैसे महान क्रांतिकारियों से हुई।

भगत सिंह का वैवाहिक जीवन

भगत सिंह की जीवनी
भगत सिंह की जीवनी

1927 में, भगत सिंह के माता-पिता ने भगत सिंह की शादी की व्यवस्था करने की कोशिश की। भगत सिंह ने साफ इनकार कर दिया और जब परिवार का दबाव बढ़ गया तो उन्होंने देश की सेवा करने के लिए घर छोड़ दिया।

भगत सिंह जी का व्यवहार 

जेल के दिनों में भगत सिंह जी द्वारा लिखे गए पत्र उनके विचारों और विचारों को प्रकट करते हैं। उनके अनुसार, उन्होंने गुरुमुखी और शाहमुखी और हिंदी अरबी जैसी विभिन्न भाषाओं के लिए पंजाबी में विशिष्टताओं के कारण जाति और धर्म में अंतर पर शोक व्यक्त किया।

यदि कोई हिंदू किसी कमजोर वर्ग पर अत्याचार कर रहा था तो उसे भी लगा कि अंग्रेज हिंदुओं पर अत्याचार कर रहे हैं।

भगत सिंह जी कई भाषाएं जानते थे और अंग्रेजी के अलावा वे बंगाली भी जानते थे जो उन्होंने बटुकेश्वर दत्त से सीखी थी। उनका मानना ​​था कि उनकी शहादत से भारतीय जनता और जागरूक होगी और भगत सिंह की फांसी की खबर सुनने के बाद भी उन्होंने माफी मांगने से इनकार कर दिया।

भगत सिंह के नारे

भगत सिंह ने अपने जीवनकाल में कई ऐसे नारे लगाए, जो आज भी पूरे देश में सुने जाते हैं, भगत सिंह के नारे इस प्रकार हैं-

  • इंकलाब जिंदाबाद
  • साम्राज्यवाद को नष्ट करना होगा।
  • राख का एक-एक कण मेरी गर्मी से चलता है, मैं पागल हूं जो जेल में भी आजाद है।
  • क्रांति में एक शापित संघर्ष शामिल नहीं था, यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था।
  • क्रांति बम और पिस्तौल से नहीं आती, क्रांति की तलवार विचारों को तेज करने वाले पत्थर पर रगड़ी जाती है।
  • क्रांति मानव जाति का एक अविभाज्य अधिकार है। स्वतंत्रता एक जन्मसिद्ध अधिकार है जो कभी समाप्त नहीं होता। श्रम ही समाज का असली कमाने वाला है।
  • व्यक्तियों को कुचलकर वे विचारों को नहीं मार सकते।
  • क्रूर आलोचना और स्वतंत्र विचार क्रांतिकारी सोच की दो महत्वपूर्ण विशेषताएं हैं।
  • मैं एक इंसान हूं और मेरा मतलब कुछ भी है जो मानवता को प्रभावित करता है।
  • प्रेमी, पागल और कवि एक ही चीज से बने हैं।

स्वतंत्रता की लड़ाई

भगत सिंह भारत सभा में शामिल होने वाले पहले युवा थे। जब उनके परिवार के सदस्यों ने उन्हें आश्वासन दिया कि वे अब उनकी शादी के बारे में नहीं सोचेंगे, तो लाहौर में अपने घर लौट आए।

वहां उन्होंने कीर्ति किसान पार्टी के लोगों से बातचीत की और अपनी पत्रिका “कीर्ति” के लिए काम करना शुरू किया। उन्होंने इसके माध्यम से देश के युवाओं तक अपना संदेश पहुँचाया। भगतजी एक बहुत अच्छे लेखक थे जिन्होंने पंजाबी उर्दू पत्र के लिए भी लिखा था। 

1926 में, भगत को नौजवान भारत सभा का सचिव बनाया गया था। इसके बाद 1928 में वे चंद्रशेखर आजाद द्वारा गठित एक बुनियादी पार्टी हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन में शामिल हो गए।

30 अक्टूबर 1928 को साइमन कमीशन का विरोध करने के लिए पूरी पार्टी एक साथ आई, उनके साथ लाला लाजपत राय भी थे। वे लाहौर रेलवे स्टेशन पर खड़े होकर “साइमन वापस जाओ” के नारे लगा रहे थे। जिसके बाद लाठीचार्ज किया गया, जिसमें लालाजी बुरी तरह घायल हो गए और बाद में उनकी मौत हो गई।

भगत व उनकी पार्टी ने अंग्रेजो से बदला लेने की ठानी और लाला जी की म्रुत्य से आधात जिम्मेदार ऑफिसल स्कॉट को उन्होंने मारने प्लान बनाया, लेकिन भूल से तुरंत भगत लाहौर भाग निकले लेकिन उन्होंने असिस्टेंट पुलिस सौन्देर्स को मार के भाग निकले थे।

सरकार ब्रिटिश ने चारो तरफ जाल बिछा दिया उनको ढूढ़ने के लिए  बाल व दाढ़ी कटवा दी , भगत ने अपने आप को बचने के लिए तेमनी धार्मिकता सामाजिक के खिलाफ है। लेकिन उस समय देश के आगे कुछ भी भगत को कुछ नहीं दिखाई देता था। 

भगत सिंह द्वारा जेल में भूख हङताल

असेंबली बम मामले की सुनवाई के दौरान भगत सिंह और दत्त को यूरोपीय श्रेणी में रखा गया था। वहां भगत के साथ अच्छा व्यवहार किया गया, लेकिन भगत उन लोगों में से थे जो सबके लिए जीते थे। वहां रहते हुए, वह भारतीय कैदियों के साथ दुर्व्यवहार और भेदभाव के विरोध में 15 जून 1929 को भूख हड़ताल पर चले गए। 

उन्होंने 17 जून, 1929 को मियावाली जेल के अधिकारी को एक पत्र भी लिखा, जिसमें उन्हें एक जेल से दूसरी जेल में स्थानांतरित कर दिया गया। उनकी मांग कानूनी थी, इसलिए उन्हें जून के अंतिम सप्ताह में लाहौर सेंट्रल जेल में स्थानांतरित कर दिया गया था।

उस समय वे भूख हड़ताल पर थे। उसकी हालत इतनी खराब थी कि उसे सेल तक ले जाने के लिए स्ट्रेचर का इस्तेमाल किया गया।

लाहौर मजिस्ट्रेट श्नी कृष्ण की 10 जुलाई 1929 को रोज आरम्भिक कार्यवाही शुरू हो गयी। सुनवाई में इसे देख कर पुरे देश में हाहाकार मच गया। भगत और बटुकेश्वर दत्त को स्ट्रेचर पर लाया गया।

अपने साथियो की सहानुभूति में बोस्टर्ल यतीन्द्र नाथ दास 4 दिन बाद जेल में साथी अभियुक्तों ने अनशन की घोषणाकर दी। भूख हड़ताल में शामिल हुये। 

14 जुलाई 1929 को भगत सिंह ने भारत सरकार के सदन के सदस्यों को एक मांग पत्र भेजा, जिसमें निम्नलिखित मांगें की गईं: –

  • राजनीतिक बंदियों के रूप में हमें भी अच्छा भोजन दिया जाना चाहिए, इसलिए हमारे भोजन का स्तर यूरोपीय कैदियों के समान होना चाहिए। हम एक ही खुराक के लिए नहीं, बल्कि खुराक के स्तर की मांग कर रहे हैं।
  • प्रयास के नाम पर जेल में सम्मानजनक कार्य करने के लिए बाध्य नहीं किया जाना चाहिए।
  • पूर्व-अनुमोदन जो कारागार प्राधिकारियों द्वारा अनुमोदित हो पर बिना किसी प्रतिबंध के पठन-लेखन सामग्री लेने की सुविधा होनी चाहिए।
  • प्रत्येक राजनीतिक कैदी को दिन में कम से कम एक पेपर मिलना चाहिए।
  • प्रत्येक जेल में राजनीतिक कैदियों के लिए एक वार्ड होना चाहिए, जिसमें यूरोपीय लोगों की सभी जरूरतों को पूरा करने की सुविधा हो, और जेलों में रहने वाले सभी राजनीतिक कैदियों को एक ही वार्ड में रहना चाहिए।
  • नहाने की सुविधा होनी चाहिए।
  • अच्छे कपड़े पहनने चाहिए।
  • यूपी। जेल सुधार समिति में श्री जगत नारायण और खान बहादुर हाफिज हिदायत अली हुसैन की सिफारिश कि राजनीतिक कैदियों के साथ अच्छे वर्ग के कैदियों की तरह व्यवहार किया जाना चाहिए, हम पर लागू किया जाना चाहिए।

भूख हड़ताल सरकार के लिए सम्मान की बात बन गई। यहां भगत को भी प्रतिदिन 5 पाउंड का नुकसान हो रहा था। 2 सितंबर, 1929 को सरकार ने जेल जांच समिति का गठन किया।

13 सितंबर को जब भगत सिंह के दोस्त और सहयोगी यतींद्रनाथ दास भूख हड़ताल में शहीद हो गए थे, तो पूरा देश भगत सिंह के साथ आंसू बहा रहा था।

यतींद्रनाथ दास की शहादत पर पूरे देश में कोहराम मच गया। इधर सरकार इस अनशन से परेशान हो गई। सरकार और देश के नेता दोनों अपने-अपने तरीके से भूख हड़ताल को रोकना चाहते थे। सरकार द्वारा नियुक्त कारागार समिति ने अपनी सिफारिशें सरकार को भेजीं। 

भगत सिंह को डर था कि उनकी मांगों को काफी हद तक स्वीकार कर लिया जाएगा। भगत सिंह ने कहा, “हम इस शर्त पर भूख हड़ताल तोड़ने के लिए तैयार हैं कि हम सभी को एक साथ ऐसा करने का मौका मिले। सरकार इस पर राजी हो गई।

5 अक्टूबर 1929 को भगत सिंह ने 114 दिनों की ऐतिहासिक हड़ताल के लिए अपने साथियों के साथ दाल फुलका खाकर अपनी भूख हड़ताल समाप्त की।

भगत सिंह को फाँसी की सजा

ब्रिटिश सरकार इस केस लाहौर षङ्यंत्र जल्द से जल्द खात्म करना चाहती थी। इसके उदेश्य से 1 मई 1930 में  गवर्नल जनरल लार्ड इरविन ने एक आदेश जारी किया। जिसे यह अधिकार प्राप्त था।

की अभियुक्तों की अनुपस्थिति में सफाई गवाहों के बिना उपस्थित और सरकारी गवाहों से तदनुसार, 3 न्यायाधीशों का एक विशेष न्यायाधिकरण नियुक्त किया गया था। 5 मई 1930 को ट्रिब्यूनल के सामने लाहौर षङ्यंत्र आभाव में यह मुकदमे का एक तरफा पैसला कर सकती है। सुनवाई केस की शुरू हुई। 

ट्रिब्यूनल के बहिष्कार के बाद फिर से 13 मई 1930 को एक नये ट्रिब्यूनल का निर्माण किया गया जसमे जस्टिस जी। हिल्ट्न – राष्ट्रपति, न्यायमूर्ति अब्दुल कदीर -सदस्य न्यायमूर्ति जे। नहीं शीर्ष सदस्य थे। इसी ट्रिब्यूनल ने 7 अक्टूबर 1930 की सुबह एकतरफा फैसला सुनाया। 

फैसला 68 पन्नों का था जिसमें भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फांसी दी गई, कमलनाथ तिवारी, विजयकुमार सिन्हा, जयदेव कपूर, शिव वर्मा, गयाप्रसाद, किशोरीलाल और महावीर सिंह को उम्रकैद की सजा सुनाई गई। कुंडल लाल को 7 साल और प्रेम दत्त को 3 साल की सजा सुनाई गई थी।

सरकार के रवैये से यह तय था कि कुछ भी हो, भगत सिंह को फांसी जरूर होगी। नवंबर 1930 में इस निर्णय के खिलाफ प्रिवी काउंसिल में अपील की गई। लेकिन इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ।

24 मार्च 1931 को भगत को फांसी देने का निर्णय लिया गया। लेकिन जन विद्रोह से बचने के लिए 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को शाम 7.33 बजे फांसी दे दी गई और इन महान अमर व्यक्तित्वों को अपने देशवासियों में देशभक्ति की भावना जगाने के लिए भगत सिंह शहीद दिवस कर दिया गया।

भगत सिंह की मृत्यु 

लाहौर साजिश मामले में भगत सिंह को सुखदेव और राजगुरु के साथ मौत की सजा सुनाई गई थी और बटुकेश्वर दत्त को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

23 मार्च 1931 को शाम 7 बजे भगत को सुखदेव और राजगुरु के साथ फांसी पर लटका दिया गया था। फांसी के वक्त तीनों के चेहरे पर एक भी निशान नहीं आया और तीनों ने मुस्कान के साथ देश के लिए कुर्बानी दे दी। भगत सिंह एक अच्छे वक्ता, पाठक और लेखक भी थे। उन्होंने कई पत्रिकाओं के लिए लिखा और संपादित भी किया।

शहीद भगत सिंह की कविता

  • भगत सिंह के इतिहास में गूँजता एक नाम है। 
  • जिसमे वे थे भगत सिंह की शेर की दहाड़ सा जोश था। 
  • भगत सिंह छोटी सी उम्र में देश के लिए शहीद हुआ जवान थे। 
  • आज भी भगत सिंह ऐसे विचारो अमीर थे, जो बाल उठाते हैं 

भगत सिंह के रोचक तथ्य

  • भगत सिंह का बचपन में जब अपने पिता के साथ खते में जमीन जाते थे। पूछते थे की हम बंदूक क्यों नहीं उपजा सकते। 
  • हत्याकांड के समय जलियावाला बाग भगत की उम्र सिर्फ 12 साल थी। भगत इस घटना ने क्रांतिकारी बना दिया हमेशा के लिए। 
  • कॉलेज के दिनों में भगत ने National Youth Organisation की स्थापना की थी। 
  • शहीद भगत सिंह कॉलेज के दिनों में एक अच्छे अभिनेता भी थे भगत बहुत से नाटकों में हिस्सा लिया और कुशती का भी शौक था। 
  • भगत सिंह कॉलेज के दिनों में वे एक अच्छे अभिनेता भी थे।भगत ने कई नाटकों में भाग लिया और उन्हें कुश्ती का भी शौक था।
  • भगत सिंह एक अच्छे लेखक भी थे, जो कई उर्दू और पंजाबी भाषा के अखबारों के लिए नियमित रूप से लिखते थे।
  • हिंदू-मुस्लिम दंगों से दुखी भगत सिंह ने खुद को नास्तिक घोषित कर दिया।
  • भगत सिंह को मूवी देखने और रसगुल्ला खाने में बहुत मजा आता था। उन्हें जब भी मौका मिलता वह राजगुरु और यशपाल के साथ फिल्में देखने जाते। मुझे चार्ली चैपलिन की फिल्में बहुत पसंद थीं।
  • भगत सिंह ने ‘इंकलाब जिंदाबाद’ का भगत का नारा दिया था।
  • भगत की आखिरी इच्छा थी कि गोली मार दी जाए। हालाँकि, ब्रिटिश सरकार ने भी उनकी इच्छाओं को नज़रअंदाज़ कर दिया था।

इसे भी पढ़े :

Related Posts